Unbiased Information and Reviews on Appliances, Solar and Saving Electricity

ऊर्जा की बचत की दृष्टि से इलेक्ट्रिक गीजर और गैस वॉटर हीटर की तुलना

By on September 24, 2015 with 5 Comments  

बिजली बचाओ पर हमने हमेशा यह उल्लेख किया है कि ‘इंस्टेंट’ पानी के हीटर, बिजली की बचत की दृष्टि से सबसे अच्छे माने जाते हैं| हालांकि, वे आपके बिजली वितरण पर लोड को बढ़ाते हैं। वास्तव में, हमने इसके बारे में विस्तार से इस लेख – तत्काल पानी हीटर/गीजर: व्यक्तिगत जरुरत के लिए तो ठीक हैं, लेकिन संपूर्ण व्यवस्था के लिए बहुत अच्छे नहीं हो सकते हैं, में लिखा है| अगर आपकी जरुरत तत्काल पानी को गर्म करने की नहीं हैं, तो अगला दूसरा अच्छा विकल्प जो आपके समक्ष होता हैं, वह हैं की आप एक छोटे आकर का वाटर हीटर का इस्तेमाल करें, (अधिक जानकारी हेतु, आप कृपया इस लेख को देखे –  बिजली की बचत के लिए सही आकार वॉटर हीटर/गीजर का चुनाव)| परन्तु, वास्तव में छोटे आकर के पानी के हीटर, विभिन्न परिस्तिथियों में प्रभावी ढंग से काम नहीं करते हैं, ठन्डे शहरों में तत्काल वाटर हीटर ही कही बेहतर तरीके से काम करते हैं, और उपेक्षाकृत ज्यादा कामयाब भी रहते हैं| छोटे आकर के वाटर हीटर, जिस दर से पानी को गर्म करते है, वह उपेक्षाकृत बहुत धीमी रहती है। लेकिन अगर आपकी जरुरत एक छोटे भण्डारण क्षमता वाले हीटर की हैं, यानि की आप एक ऐसे ऊर्जा बचत वाटर हीटर का चुनाव करना चाहते हैं, जो न केवल कार्य की दृष्टि से तेज हो, बल्कि निरन्तर गर्म पानी की आपूर्ति एक लम्बे समय के लिए कर सकता हो| तो आपको गैस आधारित वॉटर हीटर का चुनाव करना चाहिए। इस लेख में हम आपको दोनों प्रकार के इलेक्ट्रिक गीजर और गैस आधारित वॉटर हीटर का कुछ संख्या के आधार पर तुलनात्मक विश्लेषण प्रस्तुत करेंगे|

हीटिंग दर की तुलना

सबसे नियमित पानी के हीटर में 2-3 किलोवाट हीटिंग तत्व के होते है। जबकि एक तत्काल विद्युत वॉटर हीटर में 4 किलोवाट हीटिंग तत्व के होते है, निम्न तालिका से हमे पता चलता है की हीटिंग की दर के अनुसार उनका प्रदर्शन तुलनात्मक रूप से कैसा रहता हैं :

ताप तत्व वाट क्षमता
2 किलोवाट 3 किलोवाट  4 किलोवाट
6 लीटर पानी को 25 डिग्री तापमान तक गर्म  करने में लगा समय 5.25  मिनट 3.5 मिनट 2.63  मिनट

इसका मतलब यह है की एक तत्काल विद्युत वाटर हीटर 1 लीटर पानी को 25 डिग्री के तापमान पर गर्म  करने के लिए, अमूमन  30 सेकेंड का समय लेता हैं और अगर आप एक बेहद ठंडे पानी का इस्तेमाल कर रहे हैं, या फिर आप बहुत अधिक सर्दियों के दौरान पानी को गर्म  कर रहे हैं, तो पानी गर्म होने के लिए, इससे ज्यादा समय (30 सेकेंड के आसपास) भी ले सकता हैं| इसकी तुलना में गैस वॉटर हीटर 12 किलोवाट क्षमता के होते हैं, और वह एक तत्काल विद्युत वॉटर हीटर की तुलना में पानी को तिगुनी तेजी से गर्म करने की क्षमता रखते हैं, और वह 1 लीटर पानी को 25 डिग्री के तापमान पर गर्म करने के लिए, अमूमन  10 सेकेंड का ही समय लेंगे| इसका मतलब, यह हैं की आपको स्नान के लिए गैस वॉटर हीटर द्वारा गर्म पानी जल्दी मिल सकेगा|

हीटिंग की लागत की तुलना

अमूमन गैस वॉटर हीटर लगभग 85% ऊर्जा कुशल होते हैं| इसका अर्थ हैं, की गैस वॉटर हीटर में 15% ऊर्जा गर्मी के रूप में लुप्त हो जाती हैं, और 85% ऊर्जा का ही इस्तेमाल पानी को गर्म करने में होता हैं| इसके विपरीत इंस्टेंट इलेक्ट्रिक गीजर 100%  ऊर्जा कुशल होते हैं, इनमे सारी ऊर्जा का इस्तेमाल पानी को गर्म करने के लिए ही प्रयोग होता हैं| यहाँ पर हम यह मान सकते हैं की ‘स्टैंडिंग लोस्सेस’, तत्काल पानी हीटर या इंस्टेंट इलेक्ट्रिक गीजर  में नगण्य होते हैं, क्यूंकि वहाँ कोई भंडारण नहीं करना पड़ता हैं| अगर हम 6 लीटर पानी को 25  डिग्री तापमान तक गर्म करने की लागत की तुलना की तुलना करें, तो हम तुलनात्मक रूप से कुछ ऐसा पाएंगे:

एलपीजी पीएनजी इलेक्ट्रिक
यूनिट परिभाषा एक सिलेंडर (14.2 किलोग्राम एलपीजी) 1 एससीएम 1 किलोवाट प्रति घंटा
ऊर्जा प्रति यूनिट (जूल में) 654620000 41868000 3600000
ऊर्जा (जूल में) प्रति इकाई फैक्टरिंग दक्षता 556427000 35587800 3600000
हम  6 लीटर पानी को 25  डिग्री तापमान तक गर्म करने की यूनिट 0.001132224 0.017702696 0.175
प्रति इकाई लागत (रुपए में) रुपये 423  (सब्सिडी आधारित), रुपये 23 रुपये 5
रुपये 750 (सब्सिडी आधारित नहीं)
6 लीटर पानी को गर्म की लागत (रुपए में) रुपये 0.48 (सब्सिडी आधारित), रुपये 0.41 रुपये 0.875
रुपये 0.85 750  (सब्सिडी आधारित नहीं)

इससे हमको यह पता चलता हैं की गैस आधारित पानी हीटर, बिजली पानी हीटर की तुलना में 50% अधिक ऊर्जा कुशल हैं (अगर हम गैस या पीएनजी को सब्सिडी प्रदान करते हैं)|

गैस वाटर हीटर की ऊर्जा क्षमता 85% है, तो क्या यह वास्तव में ऊर्जा कुशल है?

गैस ऊर्जा या एनर्जी का एक प्राथमिक स्रोत होता है, अर्थात इसका इस्तेमाल उसी रूप में किया जाता हैं, जिस रूप में इसका उद्धरण होता हैं और ऊर्जा का जो कोई भी नुकसान होता हैं, वह केवल परिवहन के दौरान ही होता है| बिजली ऊर्जा का एक माध्यमिक स्रोत होता है| इसका उत्पादन कोयला या जीवाश्म ईंधन के अन्य रूपों के उपयोग से होता है| इस प्रक्रिया में उत्पादन, पारेषण और बिजली के वितरण में सामान्य रूप से कुछ अक्षमताये होती ही हैं|  सामान्यतः हमारे देश में 15-30% ऊर्जा का नुकसान उत्पादन, पारेषण और बिजली के वितरण जैसी प्रक्रियाओ में होता हैं| तो हम यह कह सकते हैं की, पानी गर्म करने के लिए अपने आप में बिजली का उपयोग सबसे सर्वोत्तम उपाय नहीं हैं, और गैस आधारित वाटर हीटर का उपयोग ही सबसे अधिक ऊर्जा कुशल विकल्प हमारे समक्ष होता हैं|

गैस वॉटर हीटर कैसे काम करते  है?

एक गैस वॉटर हीटर के पीछे एक बहुत ही साधारण सी एक प्रौद्योगिकी निहित  होती है, पानी एक ‘हीट एक्सचेंजर’ द्वारा एक पाइप लाइन  के माध्यम से गुजरता है| हीट एक्सचेंजर में लगे ‘पाइप फिन्स’ इसको कवर (ढक्क) करके रखते हैं, और इसके नीचे एक गैस बर्नर होता है (जैसा की आप नीचे चित्र में भी देख सकते हैं)। यह गैस बर्नर, ‘इनबिल्ट बैटरी’ का उपयोग कर बनाई गई एक बिजली के आवेग से प्रज्वलित (इग्नाइटेड) होती  है। यह ऊर्जा (या लपटे) पहले फिन्स को प्रज्वलित करती हैं, उसके उपरांत यह पानी को गर्म करती हैं| इस प्रकार, हमे गर्म  पानी, गर्म इसमें लगे आउटलेट से प्राप्त होता है| यह सिस्टम नल के स्विच को ओन करने से ही शुरू हो जाता हैं, और जैसे ही  नल को बंद किया जाता हैं, सिस्टम स्वतः स्विच ऑफ़ हो जाता है|

Diagram Source: http://www.waterheatingsystemsale.com/tanklessone.jpg

Diagram Source: http://www.waterheatingsystemsale.com/tanklessone.jpg

 

क्या ये वाटर हीटर पूर्णता सुरक्षित होते हैं?

आमतौर में ये वाटर हीटर सामान्यतः सुरक्षित ही माने जाते हैं, बस ध्यान रहे की इनको इस्तेमाल करते समय आपको कुछ बुनियादी सुरक्षा सावधानियों का  अवश्य पालन करना चाहिए। कुछ चीजे जिनका आपको विशेष रूप से  ध्यान रखना चाहिए:

  • एक बंद जगह पर इस प्रकार के हीटर को न लगाये (जैसे बाथरूम), ध्यान रखे की वहाँ वेंटिलेशन अच्छा हो।
  • किसी ज्वलनशील, विस्फोटक या संक्षारक वस्तु के करीब इसे रखने से बचें।इसके अलावा, यह ध्यान दे की वॉटर हीटर के करीब किसी भी प्रकार का बिजली के तारों का जमघट न लगा हो|
  • यह जरूर सुनिश्चित करे की जुड़े हुए पाइप लीक न कर रहे हो, यह पूरी तरह से संक्षारक विरोधी और साफ़ हों।.
  • आप वाटर हीटर को ऐसी उचाई पर रखे, जिससे आप आसानी से इसमें जलती पायलट फ्लेम को देख सकें।
  • लंबे समय के लिए गैस वॉटर हीटर (और इसके  नल) को खुला ना छोड़ दें।

क्या इनको खरीदने के लिए कोई विशिष्ट टिप्स होती हैं?

  • बीआईएस या भारतीय मानक ब्यूरो ने गैस वॉटर हीटर के लिए विशेष सुरक्षा और प्रदर्शन मानक प्रदान किये  है। आपको हमेशा एक ‘आईएसआई मार्क’ वॉटर हीटर (या गैस वॉटर हीटर) ही खरीदना चाहिए, और बिना ब्रांड वाले गैस वॉटर हीटर की खरीद से बिल्कुल परहेज रखना चाहिए|
  • वाटर हीटर लगाने के लिए आपको पहले इसे रखने के लिए एक उचित जगह को सुनिश्चित कर लेना चाहिए, जैसा कि ऊपर उल्लेखित भी किया  गया है की उचित जगह तथा अच्छा वेंटीलेशन वाटर हीटर के लिए बहुत महत्वपूर्ण होते हैं।
  • उपभोक्ता वॉयस रिपोर्ट (लिंक) के अनुसार कुछ अच्छे मौजदा वॉटर हीटर ब्रांड, जो बाजार में उपलब्ध हैं: केनस्टार, क्रॉम्पटन ग्रीव्ज, मार्क, वीनस, राकोल्ड और बजाज ।

निष्कर्ष

बिजली की बचत के लिए सही आकार के वॉटर हीटर/गीजर का चुनाव आपकी बिजली की खपत और संबंधित मूल्य को कम करने के लिए सबसे अच्छा तरीका होता है| हालांकि, छोटे पानी के हीटर, सही समय और लंबी अवधि में आपको पर्याप्त मात्रा में गर्म पानी नहीं दे सकते है। अगर आपके पास गैस हीटर लगाने का विकल्प उपलब्ध है, तो यह ऊर्जा और लागत दोनों ही दृष्टि से आपके लिए सबसे अच्छा विकल्प होता है।

 

संदर्भ

About the Author:
Abhishek Jain is an Alumnus of IIT Bombay with almost 10 years of experience in corporate before starting Bijli Bachao in 2012. His passion for solving problems moved him towards Energy Sector and he is keen to learn about customer behavior towards Energy and find ways to influence the same towards Sustainability. .

Top