Unbiased Information and Reviews on Appliances, Solar and Saving Electricity

भारत में सर्वश्रेष्ठ ट्यूबलाइट / बल्ब (सामान्य और एलईडी), लागत, वाट क्षमता और खरीद गाइड

By on January 31, 2020 with 0 Comments  

अपने घर के बनाते या नवीनीकरण के समय आप इसके लिए सबसे अच्छा ट्यूबलाइट्स या बल्ब खरीदना चाह रहे होते है जिससे आप अपने घर को अच्छी तरह से प्रकाशित कर सके। आज ट्यूबलाइट्स और बल्ब ऐतिहासिक चर्चा का विषय हो गया है हमारे सामने इतने अधिक विकल्प उपलब्ध हो गए है की किसी को भी खरीदना और अपने घर के लिए क्या अच्छा है, तय करना काफी मुश्किल काम हो गया है। अतीत में, हम ज्यादातर सामान्य बल्ब या फ्लोरोसेंट ट्यूबलाइट प्राप्त करते थे जो इस सदी के प्रारम्भ में सीएफएल और ऊर्जा-कुशल फ्लोरोसेंट ट्यूबलाइट्स ने इनका स्थान ले लिया । लेकिन वर्तमान समय में एलईडी ट्यूबलाइट या बल्ब ही आपके लिए सबसे अच्छा विकल्प है ।

आज भारत में बहुतेरे ऊर्जा-कुशल विकल्प उपलब्ध हैं और बिजली बचाओ में हमारा प्रयास हमेशा उपभोक्ताओं को उनके सभी विकल्पों के बारे में जागरूक करने में मदद करना है। पुराने विकल्पों की तुलना में आधुनिक ऊर्जा-कुशल एलईडी ट्यूबलाइट्स या बल्ब शायद कुछ थोड़े महंगे हो सकते हैं लेकिन वे बहुत अधिक मूल्य प्रदान करते हैं। इस पोस्ट में, हम इन विकल्पों की लागत या कीमतों, उनके वाट क्षमता और उनसे मिलने वाले लाभ के बारे में चर्चा करेंगे। हम एलईडी ट्यूबलाइट्स या बल्ब खरीदारी के लिए गाइड और कुछ उत्पाद के विषय में भी चर्चा करेंगे जो बिजली बचाने मे ही नहीं  अपितु अच्छी प्रकाश व्यवस्था बनाने मे भी आपकी मदद करेगी। हम यह भी चर्चा करेंगे कि आपके कमरे के लिए प्रकाश व्यवस्था कितनी अच्छी है और प्रकाश की मात्रा कैसे तय करें।

सबसे पहले, सभी पुराने और नए विकल्पों पर एक नज़र डालते हैं:

इंकंडेसेंट (Incandescent) बल्ब

Incandescent Bulb

यह बल्ब पारंपरिक पीले प्रकाश को प्रदान करते है और जबसे थॉमस एडिशन ने इसका आविष्कार किया था तबसे इसी बल्ब ने हमारे घरो को प्रकाशित किया है और विभिन्न रेटिंग्स में उपलब्ध थे: 40W, 60W और 100W, लकिन आज ऊर्जा की खपत के मामले में सबसे अक्षम सिद्ध हुए हैं। यह बॉल्ब ऊर्जा का 90% गर्मी के रूप में खो देते हैं और केवल 10% उपयोगी प्रकाश में परिवर्तित होते हैं।

हालांकि वे अभी भी काफी सस्ती हैं (10 / – रु) और अभी भी कुछ घरों में इसका उपयोग किया जाता है, लेकिन वे ऊर्जा -खाऊ ही कह लायेंगे। दुनिया के कई देशों ने इनका उत्पादन बंद कर दिया है। यदि वे अभी भी आपके घर में काम करने की स्थिति में हैं, तो उन्हें लागत-बचत के दृष्टिकोण से ऊर्जा-कुशल विकल्पों के साथ बदलने के लिए निर्णय लेना जरूरी है। यह भी ध्यान रखना जरूरी है के इस बल्ब मे 90% ऊर्जा गर्मी मे परिवर्तित हो जाती है तो कमरे का एयरकंडीशनिंग के लिए गर्मी लोड (heat load) भी बहुत अधिक बढ़ जाता है।

फ्लोरोसेंट लैंप

फ्लोरोसेंट लैंप, इंकंडेसेंट बल्बों (प्रकाश की समान मात्रा प्रदान करने में 50-70% बेहतर) से बेहतर हैं और वे काफी समय से बाजार में हैं। यह ट्यूब लाइट के रूप में आना शुरू हुए थे (कुछ ऐसा जिसे हम में से ज्यादातर लोग बचपन से जानते हैं) और बाद में सीएफएल के रूप में आने लगे जिससे इंकंडेसेंट लैंप के होल्डर मे ही रेट्रोफिटमेंट किया जा सके।

फ्लोरोसेंट ट्यूब लाइट

Tube Light

हर एक फ्लोरोसेंट लैंप में एक बलास्ट होती है (जिसकी आवश्यकता शुरू मे हाई वाल्ट पैदा करके आर्क स्ट्राइक करने की है और बाद मे करंट को स्थिर करने के लिए) और एक ट्यूब। अतीत में ट्यूब लाइट्स इलेक्ट्रोमैग्नेटिक बलास्ट के साथ आती थीं जिससे रोशनी शुरू में फ्लिकर करती थी। उसके बाद इलेक्ट्रॉनिक बलास्ट ने उसका स्थान ले लिया जो फ्लोरोसेंट लैंप को फ्लिकर से बचाता है। इलेक्ट्रोमैग्नेटिक बलास्ट (अब केवल ऐतिहासिक अध्ययन के लिए) एक इलेक्ट्रॉनिक बलास्ट की तुलना में बहुत कम बिजली की खपत करती है। अधिकांश ट्यूब लाइटों में आज इलेक्ट्रॉनिक बलास्ट है।
समय के साथ ट्यूबलाइट विभिन्न प्रकारों में विकसित किये गए: T12, T8 और T5। ये संख्या ट्यूब के व्यास का प्रतिनिधित्व करती है (T12-3.81 सेमी or 12/8 “, T8 2.54 सेमी या 1 इंच है और T5 1.69 सेमी या 5/8” है)। संख्या जितनी कम होगी, दक्षता उतनी ही अधिक होगी। इलेक्ट्रोमैग्नेटिक बलास्ट के साथ एक T12 ट्यूब लाइट आमतौर पर 55W बिजली की खपत करती है, लेकिन इलेक्ट्रॉनिक बलास्ट वाली एक T5 केवल 28W बिजली की खपत करती है (तुलना 4 फीट ट्यूबलाइट के लिए है)। इस प्रकार एक T5 के मुकाबले T12 ट्यूब लाइट पर लगभग 50% बिजली की बचत प्रदान होती है । T8s आमतौर पर 38W ट्यूबलाइट हैं और T12s से बेहतर हैं। भले ही T5s अपने स्वर्णिम समय थोड़े महंगे थे लेकिन फिर भी T8 या T12 को बदल देने पर एक साल के भीतर पेबैक हो जाता था। साथ ही, उनकी लाइफ काफी अच्छी थी और वे कम से कम 3-4 साल तक काम करती थी । कई कंपनियां T5 पर 1-2 साल की रिप्लेसमेंट वारंटी भी देती रही हैं । इस प्रकार पेबैक वारंटी अवधि के भीतर होता है। हालांकि, फ्लोरोसेंट ट्यूबलाइट्स इन दिनों अप्रचलित हो रहे हैं और एलईडी ट्यूबलाइट्स द्वारा प्रतिस्थापित हो रहे हैं।

सीएफएल (कॉम्पैक्ट फ्लोरोसेंट लैंप)

CFL Bulb

सीएफएल को काफी समय से ऊर्जा बचत सबसे अच्छा विकल्प माना जाता रहा है। सीएफएल फ्लोरोसेंट लैंप (या ट्यूब लाइट) का एक प्रकार है, लेकिन इंकंडेसेंट लैंप के रेट्रो फिटमेंट के उद्देश्य से विकसित किया गया है। सीएफएल प्रकाश के एक बिंदु स्रोत के रूप में कार्य करते हैं (एक बिंदु से उत्पन्न होने वाली प्रकाश) जबकि ट्यूब लाइट लाइन स्रोत हैं (ट्यूब लाइट की लंबाई बड़ी होती है) और इस प्रकार ट्यूब लाइट द्वारा कवर किया गया क्षेत्र सीएफएल की तुलना में बहुत अधिक है। यही कारण है कि बहुत से लोगों को लगता है कि सीएफएल ट्यूब लाइट की तुलना में कम रोशनी का उत्पादन करते हैं। समान वाट क्षमता (2x14W सीएफएल) के साथ भी प्रकाश की मात्रा सीएफएल के बिंदु स्रोत होने के कारण टी 28 ट्यूबलाइट (28W की) की तुलना में कम महसूस होती है। आकार में कॉम्पैक्ट होने वाले सीएफएल कम वॉटेज के बल्ब बनाने के विकल्प मे भी विकसित किये गए जो छोटे स्थानों को आवश्यकता को पूरा कर सकते हैं जहां ट्यूबलाइट अतिरिक्त रोशनी (आवश्यकता से अधिक) प्रदान करती हैं। सीएफएल एक सामान्य इंकंडेसेंट लैंप के मुकाबले 70% तक ऊर्जा बचत प्रदान करती रही है। हालांकि एक इंकंडेसेंट लैंप की तुलना में थोड़ा अधिक महंगा रहा, लकिन पेबैक एक वर्ष के भीतर होता था और बहुत लोकप्रिय रही । लकिन आज एलईडी लैंप के विकसित होने के बाद सीएफएल का स्वर्णिम समय पूरा हो रहा है और उसे एलईडी लैंप से बदला जा रहा है ।

इंकंडेसेंट (20 वीं सदी की शुरुआत) और फ्लोरोसेंट (20 वीं शताब्दी के मध्य की शुरुआत) लैंप अब केवल एक विशिष्ट क्षेत्र में सीमित उपयोग के साथ इंजीनियरिंग अध्ययन के लिए ही महत्त्व रह गया हैं और रोशनी इंजीनियरिंग का क्षेत्र अब पूरी तरह से एलईडी रोशनी (21 वीं सदी की शुरुआत) द्वारा ले लिया गया है) जब तक अधिक ऊर्जा-कुशल स्रोत की खोज नहीं हो जाती है।

एलईडी (प्रकाश एमिटिंग डायोड)

LEDLights

एल ई डी नवीनतम और सबसे कुशल प्रकाश विकल्प हैं जो बाजार में उपलब्ध हैं। बिजली की खपत के लिए सीएफएल और फ्लोरोसेंट लैंप की तुलना में उनकी बिजली की खपत कम है। एल ई डी लगभग 10-25 वर्षों के समय तक चलने वाले होते हैं और उनका प्रदर्शन पूरे जीवनकाल के दौरान समान रहता है (ट्यूबलाइट्स और सीएफएल समय के साथ मंद हो जाते हैं)। हालांकि पहले लॉन्च और 2015 तक की अवधि के दौरान थोड़ा महंगा था, लेकिन भारत सरकार के प्रोत्साहन से बड़े स्तर पर उत्पादन और दरों को घटाकर रु। 38 प्रति 9 डब्ल्यू एलईडी लैंप और उत्पादन 4 करोड़ के स्तर तक पहुंच गया जो पहले केवल 10 लाख ही था। LED आदर्श रूप से लंबे समय तक चलने वाले विकल्प हैं क्योंकि एलईड की लाइफ लगभग 10 वर्ष है। लेकिन एलईडी में स्थापित ड्राइवर के विफल होने की सम्भावना बनी रहती है । यदि आप एक असफल एलईडी का सामना करते हैं, तो यह देखने की कोशिश करें कि क्या आपका इलेक्ट्रीशियन ड्राइवर को बदल सकता है और इसे फिर से काम करा सकता है तो काम खर्च करके आप उसे दुरस्त करा सकते है।

एलईडी ट्यूबलाइट्स

एलईडी ट्यूबलाइट्स नियमित ट्यूबलाइट्स के एक अच्छा विकल्प हैं। वे प्रकाश का एक लाइन स्रोत हैं और इस प्रकार वे एक बड़े क्षेत्र को कवर करते हैं। इन दिनों बाजार में एलईडी ट्यूबलाइट्स के कई विकल्प उपलब्ध हैं: 18 वाट, 20 वाट, 22 वाट, आदि। प्रकाश उत्पादन (या ल्यूमन्स आउटपुट) के संदर्भ में 20 वाट का एलईडी ट्यूबलाइट एक पुराने 40 वाट टी -8 और 27 वाट टी -5 ट्यूबलाइट के समान है।।

एलईडी बल्ब

एलईडी बल्ब सीएफएल बल्ब का रेट्रोफिटमेंट यानी प्रतिस्थापन का बहुत अच्छा विकल्प है। प्रतिस्थापन के विषय मे सोचने के समय ध्यान दे की लेद लैंप के प्रकार कौन से है। B 22 पिन टाइप , E27 स्क्रू टाइप E15 स्क्रू टाइप और सजावटी प्रकाश व्यवस्था के लिए उपयोग होता है। ये प्रकाश का एक बिंदु स्रोत हैं और इस प्रकार एक छोटे से क्षेत्र को कवर करते हैं। यदि आप अपने मौजूदा सीएफएल को बदलना चाहते हैं, तो आप तुलना पाने के लिए नीचे दी गई तालिका को देख सकते हैं:

Light OutputLEDsCFLs
LumensWattsWatts
450-6004-58-12
750-9006-813-18
1100-13009-1318-22
1600-180016-2023-30
2600-280025-2830-55

वर्ष 2019 में सर्वश्रेष्ठ लैंप

ऊपर से यह स्पष्ट है कि आपके घर के लिए लैंप के चयन करते समय एलईडी लैंप का उपयोग करना सबसे अच्छा विकल्प है। प्रकाश के किसी अन्य स्रोत की तुलना में एलईडी का मुख्य लाभ यह है:

  1. 100-120 लुमेन / वाट की उच्च ऊर्जा दक्षता और भविष्य में चल रहे अनुसंधान के अनुसार 200 लुमेन / वाट तक जा सकती है।
  2. कोई वार्म-अप देरी नहीं करता है और बिना किसी फ़्लिकेरिंग के तुरंत शुरू होता है जो फ्लोरोसेंट लैंप में प्रायः पाया जाता है।
  3. बार-बार स्विच के इस्तेम्मल से लाइफ पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है।
  4. रेट्रो फिटमेंट विकल्प विकसित किये गए है जिससे वर्तमान में लगे हुए लैंप के बदलाव करने मे कोई कठिनाई न हो।
  5. बीम के कोण के बढ़ने के लिए एलईडी चिप्स जिसमे एक से अधिक एलईडी लगाई जा सके और रिफ्लेक्टर को विकसित किया गया है ।
  6. 160 से 280 वाल्ट तक के वोल्टेज उतार-चढ़ाव की सहन करने की क्षमता रखता है।
  7. किसी भी आवश्यकता, आकार, साइज आदि की जरूरत को पूरा करने के साथ साथ एलईडी का उपयोग ने कई सजावटी रोशनी विकल्पों का जन्म दिया है ।

लैंप के खरीदारी के लिए गाइड

बल्ब या ट्यूब लाइट क्षमता परंपरागत रूप से ‘वाट’ के द्वारा निर्देशित किया गया है। लेकिन वाट उत्पादित प्रकाश की वास्तविक मात्रा का प्रतिनिधित्व नहीं करत है। उत्पादित प्रकाश की मात्रा को ‘लुमेन’ से दर्शाया जाता है। इसलिए दो लैंप की तुलना करने के लिए लैंप के लुमेन आउटपुट की ही तुलना करनी चाहिए।

लुमेन आउटपुट

लुमेन आउटपुट लैंप की दक्षता को परिभाषित करता है। यदि इनपुट वाट है तो लुमेन आउटपुट है और लुमेन / वाट दीपक की दक्षता को परिभाषित करता है।

प्रकाश के वितरण का कोण

प्रकाश के वितरण का कोण प्रकाश स्रोत द्वारा उत्पादित बीम कोण है। एलईडी एक बिंदु स्रोत है, लेकिन यह सघन और चमकदार है, जो स्पॉटलाइट, फ्लडलाइट, वाइड फ्लडलाइट और बहुत व्यापक फ्लडलाइट की आवश्यकता वाले बड़े अनुप्रयोगों के लिए उपयोग करने योग्य बनाया जा सकता है।

रंग प्रतिपादन सूचकांक (CRI)

यह वह सूचकांक है जो प्रकाश को रंग को मापता है यह बताता है की वह वास्तविक प्रकाश के कितने करीब है। सीआरआई 0-100 के बीच मापा जाता है। यदि CRI उच्च है तो प्रकाश की गुणवत्ता अधिक है। यदि CRI कम है, तो प्रकाश की गुणवत्ता कम है।

केल्विन स्केल पर रंग का तापमान

रंग तापमान एक प्रकाश बल्ब द्वारा प्रदान की गई प्रकाश रंग का वर्णन करने का एक तरीका है। इसे केल्विन (K) की डिग्री में 1,000 से 10,000 तक के पैमाने पर मापा जाता है। आमतौर पर, वाणिज्यिक और आवासीय प्रकाश अनुप्रयोगों के लिए केल्विन तापमान 2000K से 6500K के पैमाने पर बीच मे रहता है । नीचे दी गई तालिका में प्रकाश की ओर रंग तापमान की गुणवत्ता का वर्णन किया गया है।

Light Temp

Color TemperatureQuality of Light
2700K-3500KYellowish Light
4000K-4500 KLess Yellowish Light
5000K-6500KWhite light

केल्विन पैमाने पर जितना अधिक आगे बढ़ते हैं तो सबसे पहले पीली रोशनी, सफेद रोशनी, और नीली रोशनी में प्रगति करेंगे। इंकंडेंसेंट और हलोजन रोशनी 2500K – 3000K के बीच होती है। प्रत्यक्ष सूर्य के प्रकाश 4800K के बराबर है। 5600K के आसपास डे लाइट पाई जाती है। एक बदली आकाश या कूल सफेद 6000K-7500K के बीच पाया जा सकता है। एक साफ नीला आकाश 10,000K पर पाया जा सकता है।

आपके कमरे के लिए कितना प्रकाश आवश्यक है?

एक कमरे के लिए आवश्यक प्रकाश की मात्रा कमरे के आकार और कमरे के उद्देश्य पर निर्भर करती है। जटिल कार्यों जैसा की इलेक्ट्रॉनिक सामान की रिपेयर, आदि के लिए अधिक प्रकाश की आवश्यकता होती है और कमरे मे केवल घूमने के लिए कम रोशनी की आवश्यकता होती है। पार्किंग मे काम प्रकाश की आवश्यकता होती है।एक क्षेत्र में आवश्यक प्रकाश की मात्रा को “लक्स” (साबुन का एक लोकप्रिय ब्रांड) के स्तर के रूप में परिभाषित किया गया है जो लुमेन / क्षेत्रफल (lumen / m2) के बराबर है। नीचे दी गई तालिका विभिन्न कार्यों के लिए लक्स स्तर का एक मापदंड कैलकुलेशन मे किया जा सकता है:

(इस सम्बन्ध अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर जाएँ।)

इसलिए यदि आपके पास एक कमरा है जो 10 फीट x 10 फीट (जो 9.29 m2 है) और आप कमरे में  आसान कार्य करना चाहते हैं, तो कमरे में आवश्यक प्रकाश की मात्रा 250 x 9.29 = लगभग 2400 लुमेन है। एक सिंगल ट्यूब लाइट से इसे प्राप्त कर सकते हैं। हर लैंप के रेटिंग प्लेट पर उसकी लुमेन आउटपुट दिया जाता है और आप अपनी आवश्यकता से कैलकुलेशन कर सकते है।

यदि आपके पास एक वर्ग मीटर का एक छोटा क्षेत्र है और आप इसे कंप्यूटर के काम के लिए उपयोग करते हैं, तो 12-वाट का सीएफएल या 8 वाट के LED इसके लिए अच्छा है।

ActivityIllumination

(in Lux i.e. Lumen/m2

Public areas with dark surroundings20-50
Simple orientation for short visits50-100
Working areas where visual tasks are only occasionally performed100-150
Warehouses, Homes, Theaters, Archives150
Easy Office Work, Classes250
Normal Office Work, PC Work, Study Library500

टास्क-आधारित प्रकाश व्यवस्था के अनुसार आप खुद से अपने कमरे मे लाइट सिस्टम डिज़ाइन कर सकते है।

आप बिजली कब बर्बाद करते हैं?

जब आप आवश्यकता से अधिक ल्यूमन्स का उपयोग किसी कमरे में करते हैं तो आप अतिरिक्त प्रकाश व्यवस्था के लिए बिजली बर्बाद कर रहे हैं। ऐसा होने पर कई मामले सामने आते हैं:

  1. एक कमरे में वांछित से अधिक रोशनी डाली जाती है।
  2. इंदिरेक्ट लाइट का अधिक इस्तेमाल करना।
  3. कई बार रोशनी के रस्ते मे कुछ रुकावट होती है और कम रोशनी के लिए अतिरिक्त रोशनी का इंतजाम करना पड़ता है।

यदि आप बिजली बचाना चाहते हैं, तो सुनिश्चित करें कि उपरोक्त में से कोई भी बाधा तो पैदा नहीं कर रहा है।

क्या जीवन भर बल्ब की चमक एक समान रहती है?

नहीं। यह अधिकांश बल्बों के प्रकार पर निर्भर करता है और इंकंडेसेंट और फ्लोरोसेंट लैंप मे समय के साथ घटता है। लकिन एल ई डी को अपने पूरे जीवन में प्रकाश के समान स्तर के लिए जाना जाता है और वास्तव इस प्रकार की परफॉरमेंस भी प्रदान कर रहे है।

Type

Life

Incandescent Bulb

750-1000 hrs

CFL

6000-10000 hrs

Tube-lights

7000-24000 hrs

LED

25000-50000 hrs

ऊपर की रेंज औसत गुणवत्ता वाले बल्ब से अच्छी गुणवत्ता के बल्ब के लिए है। इस विषय मे और अधिक के लिए लिंक 1 और लिंक 2 पर क्लिक करें।

पर्यावरण के अनुकूल

एलईडी प्रकाश व्यवस्था सभी उपलब्ध प्रकाश व्यवस्थाओं मे सबसे अधिक पर्यावरण के अनुकूल है। ये इसलिए है क्योंकि:

  1. इसमें पारा के इस्तेमाल नहीं होता है जबकि फ्लोरोसेंट बल्ब मे पारा इस्तेमाल होता है जो पर्यावरण के लिए हानिकारक है। इस लैंप का निपटारा करने के लिए बहुत अधिक नियम बने गए जिन्हे कार्यावरण करने मे भी बहुत परेशानी होती थी।
  2. यह लंबे समय तक कार्य करता रहता है (लगभग 10-20 वर्ष) और इस प्रकार इसका निपटारा करने की कोई चिंता नहीं है।

भारत में एलईडी लैंप निर्माता के 10 सर्वश्रेष्ठ ब्रांड

हमने उपभोक्ता के हित को ध्यान मे रखकर एलईडी लैंप के 10 सर्वश्रेष्ठ ब्रांड की पहचान की जो निम्नलिखित हैं 1. फिलिप्स 2. ओसराम 3. हैवेल्स 4. विप्रो 5. बजाज 6. साइस्का 7. सूर्या 8. क्रॉम्पटन 9. मोजर बेयर और 10. ओरेवा। इन सब में से किसी एक को चुनना काफी मुश्किल काम है इसलिए उपभोक्ता आम तौर पर कीमत और अपनी मूल आवश्यकता को पूरा करने के आधार पर तुलना करते हैं। अमेजन / फ्लिपकार्ट पर अधिक मात्रा के ऑर्डर पर काफी छूट मिलती और ऑनलाइन लिंक पर देखा जा सकता है और निर्णय लिया जा सकता है । एलईडी लैंप की घरेलू आवश्यकता आमतौर पर (ए) एलईडी बल्ब (बी) एलईडी ट्यूब लाइट (सी) डाउनलाइट / स्पॉटलाइट (डी) पैनल लाइट (स्क्वायर या गोल) (ई) दर्पण प्रकाश और (एफ) सजावटी की आवश्यकता के तहत कवर की जाती है। (ए) से (डी) की आवश्यकता सामान्य उद्देश्य है और बाजार में उपलब्ध विभिन्न निर्माताओं के मूल्य और कई मॉडलों के आधार पर चुनना आसान है।

बीईई द्वारा एलईडी लैंप की स्टार लेबलिंग

बीईई स्टार लेबलिंग की जाँच कर उपभोक्ता के लिए सबसे अच्छे विकल्पों में से चुनाव करने मे आसानी हो जाती है । एक और दो स्टार रेटिंग देना बंद हो गया है।आज के समय लुमेन / वाट में 90-105 के बीच 3-स्टार, 105 से 120 के बीच 4-स्टार और 120 से ऊपर 5-स्टार की रेटिंग दे जाती है । वर्तमान मे एलईडी लैंप उपलब्ध हैं वो 3-स्टार है या कुछ ब्रांड 4-स्टार रेटिंग को भी क्लेम करती है। लकिन वह दिन दूर नहीं जब 4 और 5 स्टार रेटेड एलईडी लैंप आसानी से उपलब्ध होंगे। अमेज़ॅन पर उनके उत्पाद विनिर्देश में कुछ के द्वारा किए गए दावों के अनुसार, 140 लुमेन / वाट का दावा भी किया गया है, लेकिन बीईई के अनुसार किसी ब्रांड ने पांच स्टार रेटिंग के लिए आवदेन नहीं किया है। कुछ ब्रांड जैसे की विप्रो दावा करता है कि उनके लैंप एलएम 79 या 80 के अनुसार यूएल (अंडरराइटर लेबोरेटरीज) परीक्षण किये गए है। UL एक स्वतंत्र एजेंसी है और उसके द्वारा दिए गए गुणवत्ता आश्वासन और समय समय पर परीक्षण पुनरावृत्ति एक अच्छे उत्पाद की और इशारा करती है।

अमेज़ॅन पर अपने घर के लिए एलईडी लाइट्स चुनें

20W ट्यूबलाइट

3-स्टार रेटिंग या 90 और 105 लुमेन / वाट के बीच लोकप्रिय ब्रांड और दक्षता

एलईडी बल्ब

एलईडी बल्ब को इंकंडेसेंट या सीएफएल लैंप के पारंपरिक डिजाइन को बदलने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यह बल्ब पारंपरिक रूप से तीन प्रकार हैं (ए) बी 22-पिन साइज 22 मिमी बल्ब आधार व्यास के अनुसार और पारंपरिक प्रकाश व्यवस्था के लिए उपयोग किया जाता है; (बी) ई 13-स्क्रू साइज 13 मिमी के बल्ब आधार व्यास के साथ और सजावटी प्रकाश व्यवस्था के लिए उपयोग किया जाता है (सी) ई 27–स्क्रू साइज 27-मिमी के बल्ब आधार व्यास के साथ और पारंपरिक दीवार / छत प्रकाश व्यवस्था के लिए उपयोग किया जाता है। अब निर्माताओं (जैसे फिलिप्स)  पिन या स्क्रू होल्डर में ट्यूबलाइट के साथ निर्माण करने शुरू कर दिया है । यहां अमेजन ई-कॉमर्स वेबसाइट पर आम तौर पर उपयोग किए जाने वाले कुछ विकल्प दिए गए हैं।

B22 Bulbs:

E14 Bulbs:

E27 Bulbs:

एलईडी स्पॉट लाइटिंग

इन लाइट्स का इस्तेमाल आमतौर पर स्पॉट / कैबिनेट लाइटिंग के लिए किया जाता है

एलईडी पैनल लाइटिंग

पैनल लाइटिंग को आम तौर पर सीधे प्रकाश से बचने के लिए समान वितरण के साथ छत पर लगाया जाता है। विभिन्न वाट क्षमता और आयामों के गोल और चौकोर आकार में उपलब्ध है।

अधिक जानकारी के लिए आलेख के द्वारा वर्णान

Infographic9

Infographic12

infographic14

About the Author:
Mr Mahesh Kumar Jain is an Alumnus of the University of Roorkee (IIT Roorkee) with a degree in Electrical Engineering who has spent 36 years serving the Indian Railways. He retired from Indian Railways as a Director of IREEN (Indian Railways Institute of Electrical Engineering) and has also served as Principal Chief Electrical Engineer at many Railways. He has performed the responsibility of working as Electrical Inspector to Govt. of India. Mr Mahesh Kumar Jain is having passion for electrical safety, fire, reliability, electrical energy consumption/conservation, electrical appliances and has always been an inspirational force behind this website in assisting in these areas.  He currently serves as a consultant at Nippon Koi Consortium. .

Please use the commenting form below to ask any questions or to make a comment. Please do not put the same comment multiple times. Your comment will appear after some time. Also please note that we do not reply to emails or comments on social media. So if you have any question, please put it in the form below and we will try to reply to it as soon as possible. If you are asking for an appliance recommendation, please be as specific with your requirements as possible because vague questions like asking for "cheap and best" would get vague replies. We usually reply within a day.

Please do not put comments for backlinks as they will not be approved. The comments are moderated and will be marked as spam if you put them for backlinks.


अगर आप के कुछ भी सवाल हैं, वह आप नीचे दिए हुए सवाल-जवाब सेक्शन में पूछ सकते हैं। आप अपने सवाल हिंदी में भी पूछ सकते हैं और हम आपको हिंदी में ही जवाब देंगे। कृपया एक ही सवाल को बार बार ना डालें। आप एक बार जब "submit " बटन दबाएंगे, उसके बाद आपका सवाल यहाँ दिखने में थोड़ा टाइम लगेगा। कृपया धैर्य रखें। अगर हमारे पास आपके सवाल का जवाब है तो हम उसे जल्दी से जल्दी जवाब देने की कोशिश करेंगे। कृपया अपने सवाल ई मेल या सोशल मीडिया पर ना डालें। हम ज़्यादातर एक दिन में जवाब दे देते हैं।



Support Bijli Bachao
Although we do not charge for answering your questions, but it does take time and effort to go through all of them and reply. If you find the responses useful and would like to pay for our efforts, you can click on the image above or can send us payment via UPI at bijlibachao@upi
Top